राष्ट्रीय संत संतोषदास उदासी के निधन पर देशभर में शोक की लहर

संत समाज के साथ श्रद्धालुओं में शोक की लहर छा गई।

wave-of-mourning-across-the-country-on-the-demise-of-national-sant-santosh-das-udasi

अखिल भारतीय सिन्धु संत समाज के राष्ट्रीय संरक्षक संतोषदास उदासीन के इन्दौर में असामयिक निधन के समाचार से देशभर में संत समाज के साथ श्रद्धालुओं में शोक की लहर छा गई। देशभर के संत समाज व अलग-अलग संगठनों ने संत को श्रद्धासुमन अर्पित किए।

जयपुर (विसं.)। अखिल भारतीय सिन्धु संत समाज के राष्ट्रीय संरक्षक संतोषदास उदासीन के इन्दौर में असामयिक निधन के समाचार से देशभर में संत समाज के साथ श्रद्धालुओं में शोक की लहर छा गई। देशभर के संत समाज व अलग-अलग संगठनों ने संत को श्रद्धासुमन अर्पित किए।

संत संतोषदास उदासी ने जीवन भर सनातन धर्म की सेवा की – महामण्डलेश्वर हंसराम उदासीन

अखिल भारतीय सिन्धु संत समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष महामण्डलेश्वर हंसराम उदासीन ने कहा कि स्वामी जी ने पूरे जीवन भर सनातन धर्म की सेवा की। उन्होंने देवनागरी सिन्धी लिपि में श्रीमद् भागवत कथा प्रकाशन करवाने के साथ-साथ देश भर में संतों के साथ निरंतर सेवा कार्य व गौशालाएं स्थापित करवाई, जो सदैव स्मरण रहेगी।

महंत स्वरूपदास उदासीन ने बताया कि देशभर से श्रृद्धालुओं को अपने निवास पर रहकर श्रद्धासुमन अर्पित करने की अपील की गई है और संतो-महात्माओं की ओर से अपने अपने दरबार व आश्रमों में ही प्रार्थना की जा रही है।

राष्ट्रीय महामंत्री महंत श्यामदास, श्री शांतानद उदासीन आश्रम पुष्करराज महंत हनुमानराम, स्वामी ईसरदास, निर्मलधाम के आत्मदास, जतोई दरबार के भाई फतनदास, भारतीय सिन्धु सभा के राष्ट्रीय मंत्री महेन्द्र कुमार तीर्थाणी, मनीष ग्वालाणी, मोहन तुलस्यिाणी, नरेन्द्र बसराणी, महेश टेकचंदाणी, सिन्धी समाज महासमिति के अध्यक्ष कंवलप्रकाश किशनानी, संत कवंरराम मण्डल के अध्यक्ष नरेन शाहणी भगत, वैशाली सिन्धी सेवा समिति अध्यक्ष जी.डी. वृंदाणी, झूलेलाल मन्दिर सेवा समिति अध्यक्ष प्रकाश जेठरा, सिन्धु समिति अध्यक्ष जयकिशन लख्याणी, हरकिशन टेकचंदाणी, घनश्याम भगत, खेमचंद नारवाणी, शंकर सबनाणी, राधाकिशन आहूजा, मनोज मेंघाणी, मोहन चेलाणी ने संत को श्रद्धासुमन अर्पित किए।

सभी ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि संतों के सादगी स्वभाव से उन्हें सदैव स्मरण किया जाता रहेगा, जो समाज के लिये अपूर्णीय क्षति है, वह उनके स्मरण से ही भर सकती है। उन्होंने कहा कि स्वामी संतोषदास जी निरंतर अजमेर से जुड़ाव रखते थे और सभी राष्ट्रीय आयोजनों में उपस्थित रहकर सदैव आशीर्वाद दिया।

राष्ट्रीय सिन्धी समाज ने दी संत को भावपूर्ण श्रद्धांजलि

अखिल भारतीय सिंधु साधु समाज के संरक्षक परम् पूजनीय श्री मंहत स्वामी संतोषदास उदासीन के देवलोकगमन पर राष्ट्रीय सिन्धी समाज ने भी संत को श्रद्धांजलि अर्पित की। राष्ट्रीय सिन्धी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमल वरधानी, महासचिव मुकेश सचदेव (इन्दौर), डाॅ. लाल थदानी (अजमेर), किशन वाधवानी, हेमन्त भागवानी (उदयपुर), राजकुमार दरियानी (भीलवाड़ा), शंकर दानवानी (रायपुर ), विश्नी इसरानी, राजकुमार लालचंदानी (गांधीधाम), हितेश अडवाणी, किशन मोतियानी (जयपुर), आसनदास चावला, नानकराम अन्दानी (नीमच), कमल बजाज (लोनावाला), डाॅ. दिक्षिता अजवानी (दिल्ली), नरेश जजवानी (पिपलिया मण्डी), गुल माखीजानी (बड़ौदा), अनिल मेठानी, हरीश लखानी (बासवाड़ा), डाॅ. ब्रजेश परियानी (सादड़ी), रवि कृपलानी, किशोर चिमनानी (निम्बाहेड़ा), विजय मलकानी (चित्तौड़गढ़) ने उन्हे भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके द्वारा बताए सेवा कार्य मार्ग पर चलने का संकल्प लिया ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here